nagad pustak kaise likhe gram sangathan


ग्राम संगठन का नगद पुस्तक कैसे लिखे?

ग्राम संगठन का नगद पुस्तक को हम रोकड़ बही भी कह सकते है क्योंकि ग्राम संगठन में जितने भी लेन –देन होता है उन सभी लेनदेन को नगद पुस्तक में लिखना अनिवार्य है चाहे वो नगद में किया गया है या बैंक के माध्यम से किया गया हो ! तो सबसे पहले हम सभी नगद पुस्तक क्या है और इसकी परिभासा क्या है तथा इसके लिखने के फायदे क्या क्या है इसके बारे में जन लेते है

                                   

नगद पुस्तक की परिभासा :-

ग्राम संगठन में लगातार होने वाले नगद बैंक लेनदेन को खाता शीर्षक के अनुसार लिखे जाने वाले पुस्तक को नगद पुस्तक कहते है

विशेषताएं :- 

1. एक बैठक में होने वाले प्राप्ति और भुगतान के विवरण का पता चलता है 
2. नगद पुस्तक के आधार पर साधारण खाता बही में विवरण दर्ज किया जाता है

लिखने का तरीका :-

1. हर बैठक में नगद पुस्तक लिखना अनिवार्य है !

2. नगद पुस्तक में प्राप्ति को बांये तरफ से और भुगतान को दांये तरफ से वाउचर के आधार पर लिखना चाहिए

3. प्राप्त राशी को रसीद के आधार पर और भुगतान को वाउचर के आधार पर लिखना चाहिए

4. प्राप्त के तरफ प्रारंभ राशी ,प्रवेश शुल्क वसूली ,हिस्सा धन वसूली ,ऋण का क़िस्त और ब्याज वसूली ,संकुल स्तरीय संगठन से आया ऋण /निधि ,बैंक से निकासी ,नगद ,जुर्माना और अन्य आय आदि खाता शीर्षक के साथ आप को लिखना होता है

5. भुगतान के तरफ समूहों को दिए गए ऋण , संकुल स्तरीय संगठन को भुगतान की गयी किश्त राशी और ब्याज ,बैंक में जामा की गयी नगदी/चेक ,ग्राम संगठन सहायिका का मानदेय ,कार्यालय किराया खर्च ,सफ़र खर्च ,अन्य तरह का भुगतान अंतिम शेष राशी आदि का खाता शीर्षक के साथ आपको लिखना है

6.  नगदी के रूप में प्राप्त होने वाले राशी को नगद पुस्तक के प्राप्त वाले साइड में नगद वाले कॉलम में लिखना होगा

7. नगद में भुगतान होने वाले राशी को नगद पुस्तक के भुगतान वाले साइड में नगद वाले कॉलम में लिखना होगा

8. चेक /डीडी के माध्यम से प्राप्त होने वाले राशी को को नगद पुस्तक के प्राप्त वाले साइड में बैंक वाला कॉलम तरफ में ही लिखना होगा

9. चेक के माध्यम से भुगतान होने वाले राशी को नगद पुस्तक के भुगतान वाले साइड में बैंक वाला कॉलम तरफ में लिखना होगा

प्रतिप्रवाष्टि (contraentry ) क्या है और कैसे लिखे इसे ?

a.एक ही लेनदेन को प्राप्ति के तरफ और भुगतान के तरफ भी लिखना पड़े तो उसे प्रतिप्रवाष्टि (contraentry ) कहते है

b.ग्राम संगठन में भुगतान करने के लिए बैंक से नगद निकाशी करने पर प्राप के तरफ नगद वाले कॉलम में लिखना होगा और भुगतान के तरफ बैंक वाले कॉलम में लिखना होगा आप जब भी बैंक से राशी को निकासी /जामा करते है तभी आपको वो राशी दोनों तरफ लिखना होगा तभी आपका हिसाब सही होगा

c.ग्राम संगठन में जो नगद है अगर उसको बैंक में जमा करते है तो प्राप्त तरफ साइड में बैंक वाला कॉलम में और भुगतान वाले साइड में नगद वाले कॉलम में लिखना होगा

अंतिम शेष राशी कैसे निकाले !

हर बैठक में नगद पुस्तक को लिखकर उस दिन का अंतिम शेष राशी निकलकर लिखना चाहिए

b. प्राप्ति के तरफ और भुगतान के तरफ नगद और बैंक कॉलम को अलग अलग जोड़ना है

c.प्राप्ति के तरफ कुल राशी को भुगतान के तरफ कुल में लिखना होगा

d.प्राप्त के कुल राशी से भुगतान के कुल राशी को घटाकर अंतिम शेष राशी निकलेगा उसी को लिखना है

e.अंतिम शेष राशी को अछारों के रूप में लिखकर ग्राम संगठन ग्राम संगठन का सिल / मोहर लगाकर ग्राम संगठन का अध्यछ ,सचिव ,कोषाध्यक्ष का हस्ताक्षर करवाना है

f,अंतिम में बांये तरफ ग्राम संगठन का सहायिका का भी हस्ताक्षर करवाना है

उम्मीद करते है आप सभी को ये जानकारी अच्छी लगी होगी अगर आपको किसी भी प्रकार की और समूहों ,ग्राम संगठन , संकुल स्तरीय संगठन से संबधित और जानकारी चाहिए तो हमे आप comment में लिख कर भेज सकते है और उसका जवाब हम आपको देने का कोशिश करेंगे धन्यवाद्   !

समूह का मीटिंग बुक कैसे लिखा जाता है जानने केलिए यहाँ क्लिक करें 

समूह जानने केलिए यहाँ क्लिक करें

एक टिप्पणी भेजें

2 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.